ALL crime social current political sports other
अन्र्तराष्ट्रीय पर्यावरण संरक्षण दिवस पर तीन हजार पौधों का रोपण कर लिया संकल्प
August 1, 2020 • BABLI JHA • social

हरिद्वार। राधास्वामी सतसंग दयालबाग ने पर्यावारण संरक्षण को काम कर रही संस्था ‘स्फीहा‘ (सोसाइटी फार प्रिवेंशन आफ हेल्थी इंवायरमेंट एंड इकोलॉजी एंड हेरीटेज आफ आगरा) के माध्यम से एक अगस्त अंतरराष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस पर पूरे देश में हजारों की संख्या में सतसंग साधकों के माध्यम से तीन हजार पौधारोपण करने के साथ-साथ पर्यावरण की सुरक्षा का संकल्प लेकर जन-जागरूकता अभियान चलाया गया। इनमें 60 किस्मों मुख्य रूप से सागौन, फल देने वाले पौधे, औषधीय गुणयुक्त पौधे, बांस, मसाले और जड़ी बूटी के पौधे शामिल हैं। कार्यक्रम की शुरुआत राधास्वामी सत्संग के मुख्य आचार्य और डीइआइ विवि शिक्षा सलाहकार समिति केअध्यक्ष प्रो. पीएस सतसंगी ने दयालबाग में ‘सागौन‘ का पौधा लगाकर की। यूट्यूब जूम के माध्यम से 115 जगहों पर इस कार्यक्रम का सजीव प्रसारण किया गया, साथ ही इन सभी जगहों पर पौधारोपण और पर्यावरण संरक्षण कार्यक्रम भी किया गया। इस मौके पर छोटे-छोटे बच्चों ने पर्यावरण सुरक्षा और पौधरोपण को लेकर जन-जागरूकता संदेश देने वाली नृत्य नाटिका और गीत भी प्रस्तुत किए। इस दौरान हरिद्वार जिले की रुड़की दयालबाग कालोनी में संतसंगियों ने पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। राधास्वामी सतसंग साधकों ने चीकू, आड़ू, शबरती और आम्रपाली आम, नाशपाती और जामुन आदि के पौधरोपण किया। हरियाणा के पूर्व मुख्य सचिव और डीइआइ विवि के अध्यक्ष प्रेम प्रशांत ने कहाकि यह एक शानदार दिन है क्योंकि इस महामारी के बावजूद सभी नियमों और सुरक्षा का पालन करते हुए पर्यावरण संरक्षण संकल्प का यह महत्वपूर्ण कदम उठाया गया। इस मौके पर से गुरूदयाल प्रसाद नागर, प्रेम प्रसाद सलूजा, सुदेश कुमार, प्रवीण कुमार, प्रेम प्रकाश, जीएसडी शर्मा, विजय प्रकाश, एचएन तिवारी, नील कमल, प्रेम सहाय, विनय कुमार, अश्विनी कुमार, पूजा सतसंगी, अंकुर सतसंगी, शब्दस्वरूप, अशोक गुप्ता, विजय सलूजा, सुरेशचंद, आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।  इस वर्ष स्फीहा अंतर्राष्ट्रीय वृक्षारोपण अभियान में 1000 से अधिक स्वयंसेवकों ने भाग लिया और किया लगभग 60 किस्मों के 3000 से अधिक पेड़ लगाए गए, जिनमें मुख्य रूप से सागौन, फल देने वाले पेड़, औषधीय पौधे, बांस, मसाले और जड़ी बूटी। वृक्षारोपण का अनूठा पहलू यह था कि ये 115 स्थानों पर वृक्षारोपण किया गया, आगरा, भारत में स्फीहा के मुख्यालय द्वारा समन्वित किया गया। अन्य जगहों पर  ऑडियो स्ट्रीम के माध्यम से सुना गया है।