ALL crime social current political sports other
ब्रह्मलीन स्वामी महेश मुनि बोरे वाले को संतो ने दी श्रद्वांजलि
September 17, 2020 • BABLI JHA • social

हरिद्वार। श्री हरेराम आश्रम के परमाध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी कपिल मुनि महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी महेश मुनि बोरे वाले महाराज एक युग पुरूष थे जिन्होंने जीवन पर्यन्त सनातन धर्म और भारतीय संस्कृति की पताका को पूरे विश्व में फहराया और अनेकों सेवा प्रकल्प चलाकर राष्ट्र कल्याण में अपना अहम योगदान प्रदान किया। ऐसे महापुरूषों को संत समाज नमन करता है। कृष्णा नगर स्थित श्री हरेराम आश्रम में ब्रह्मलीन स्वामी महेश मुनि महाराज की पुण्य तिथि कोरोना काल के कारण सांकेतिक रूप से मनाई गई। श्रद्धालु भक्तों को सम्बोधित करते हुए म0म0 स्वामी कपिल मुनि महाराज ने कहा कि महापुरूष केवल शरीर त्यागते हैं राष्ट्र कल्याण के लिए उनकी आत्मा सदैव व्यवहारिक रूप से उपस्थित रहती है और ब्रह्मलीन स्वामी महेश मुनि बोरे वाले महाराज तो साक्षात त्याग एवं तपस्या की प्रतिमूर्ति थे। जिन्होंने समाज को ज्ञान की प्रेरणा देकर नई दिशा प्रदान की। उन्हीं के आदर्शो का अनुसरण कर संत समाज राष्ट्र निर्माण में अपनी अहम भूमिका प्रदान कर रहा है। स्वामी रामसागर मुनि महाराज ने कहा कि महापुरूषों का जीवन सदैव प्रेरणादायी होता है। ब्रह्मलीन स्वामी महेश मुनि बोरे वाले महाराज एक दिव्य महारापुरूष थे। जिन्होंने युवा संतों को संस्कारवान बनाकर देश हित के लिए प्रेरित किया। स्वामी कमल मुनि महाराज ने कार्यक्रम में पधारे सभी संत महापुरूषों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि संतों का जीवन निर्मल जल के समान होता है और संतो ंके दर्शन मात्र से ही पापों से निवृत्ति व पुण्य की प्राप्ति होती है। इस अवसर पर साध्वी प्रभा मुनि, महंत कौशल पुरी, महंत निर्मल दास, महंत जयेन्द्र मुनि, महंत दामोदर दास, स्वामी वेदानन्द, स्वामी दिव्यानंद, स्वामी रविदेव शास्त्री, स्वामी हरिहरानन्द, स्वामी दिनेश दास, स्वामी ललितानन्द गिरि, भक्त दुर्गादास आदि संत महापुरूष उपस्थित रहे।