ALL crime social current political sports other
दक्षिणकाली मंदिर परिसर में 21सौ दीपक जलाकर व आतिशबाजी कर खुशी मनायी
August 5, 2020 • BABLI JHA • current

हरिद्वार। श्री दक्षिण काली मंदिर में म.म.स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज के सानिध्य में संतों व श्रद्धालुओं ने अयोध्या में रामजन्म भूमि पूजन के अवसर पर मंदिर परिसर में 21सौ दीपक जलाकर व आतिशबाजी कर खुशी मनायी तथा 51 किलो लड्डुओं का प्रसाद श्रद्धालुओं को वितरित किया गया। इस दौरान स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि पांच सौ बरस बाद आए इस शुभ अवसर को लेकर हो रहे हर्ष को शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है। इस शुभ घड़ी को लेकर प्रत्येक भारतवासी हर्षित व आह्लादित है। मंदिर निर्माण शुरू होना सच्चाई की जीत है। अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण शुरू होने के साथ ही देश में एक नए युग का सूत्रपात हो रहा है। श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले हजारों रामभक्तों व साधु संतों का स्वप्न आज साकार रूप ले रहा है। संत समाज सहित संपूर्ण भारत में आज दीपावली पर्व जैसा माहौल है। पूरा विश्व सनातन धर्म की ओर आकर्षित हो रहा है। क्योंकि मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम भारत के ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व के पूज्यनीय व वंदनीय हैं। अपर मेला अधिकारी हरबीर ंिसंह ने कहा कि करोड़ों रामभक्तों का सपना रामभूमि पूजन से साकार हुआ है। संतों के आशीर्वाद से मंदिर निर्माण जल्द ही दिव्य व भव्य रूप से संपन्न होगा। म.म.स्वामी हरिचेतनानन्द महाराज व बाबा हठयोगी महाराज ने कहा कि जन जन के आराध्य प्रभु श्रीराम मंदिर निर्माण में संतों का योगदान सबसे अहम रहा है। जयराम पीठाधीश्वर स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी महाराज ने मंदिर निर्माण की बधाई देते हुए कहा कि मंदिर निर्माण का भूमि पूजन होना पूरे देश के लिए शुभ अवसर लेकर आया है। इस दौरान एडीएम ललित नारायण मिश्रा, महंत कमलदास, स्वामी केेशवानंद, पंडित अधीर कौशिक, डा.विशाल गर्ग, स्वामी लालबाबा, स्वामी अनुरागी महाराज, अंकुश शुक्ला, सागर ओझा, अनुज दुबे, अनुराग वाजपेयी, अमित वालिया, हिमांशु वालिया आदि उपस्थित रहे।

अयोध्या में भूमि पूजन होने के साथ विशेष अनुष्ठान संपन्न 
हरिद्वार। राम मंदिर निर्माण शुरू होने के उपलक्ष्य में नीलेश्वर महादेव मंदिर में 1 अगस्त से रोजाना 11सौ दीपक जलाकर किया जा रहा विशेष अनुष्ठान बुधवार को अयोध्या में भूमि पूजन होने के साथ संपन्न हो गया। इस अवसर पर मंदिर के परमाध्क्ष महंत प्रेमदास महाराज ने कहा कि लंबे संघर्ष के बाद मंदिर निर्माण शुरू होने पर संत समाज बेहद हर्षित है। मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम जन जन के आराध्य हैं। पांच सौ वर्ष के लंबे संघर्ष, अनेक आंदोलन व बलिदानों के बाद अयोध्या में भगवान श्रीराम का मंदिर बनने की शुभ घड़ी आयी है। समस्त समाज व प्रत्येक हिंदू धर्मावलंबी इसे लेकर उत्साहित है। मंदिर बनने की खुशी में पौराणिक नीलेश्वर महादेव मंदिर को दुल्हन की तरह सजाया गया है। एक अगस्त से रोजाना एक हजार आठ दीए जलाकर प्रभु श्रीराम को समर्पित किए जा रहे हैं। मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होने पर दीए जलाने के साथ विशेष पूजा अर्चना व प्रसाद वितरण किया गया। 

मंदिर शिलान्यास पर यज्ञ का आयोजन किया गया
हरिद्वार। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में मर्यादा पुरुषोत्तम राम के मंदिर शिलान्यास पर यज्ञ का आयोजन किया गया। कुलपति प्रो. रूपकिशोर शास्त्री ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम राम के चरित्र को अपने अन्दर उतारना बहुत जरूरी है। आज भारत का प्रत्येक नागरिक पुरुषोत्तम राम के प्रति अपना आभार व्यक्त कर रहा है और देश में जश्न का माहौल है। कुलसचिव प्रो. दिनेश चन्द्र भट्ट ने कहा कि राम का व्यक्तित्व सगुण और निर्गुण दोनों रूपों में देखा जा सकता है। राम के चरित्र को लेकर आज अयोध्या में राम मन्दिर का निर्माण किया जा रहा है। यह सनातन और हिन्दुत्व को जगाने वाली एक नई धारा का प्रवाह शुरू हो चुका है। देश में राम राज्य लौटने वाला है।परीक्षा नियंत्रक प्रो. एमआर वर्मा व प्रो. प्रभात सेंगर ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने एक नया इतिहास रच दिया है। उनके कार्यो को इतिहास के पन्नों में दर्ज किया जाएगा। इस दौरान प्रो. प्रभात कुमार, डॉ. दीनदयाल समेत स्टाफगण शामिल रहे।