ALL crime social current political sports other
गांधी जयंती के अवसर पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी कार्यकर्ताओं ने भेल विचार गोष्ठी का आयोजन किया
October 2, 2020 • BABLI JHA • other

हरिद्वार। गांधी जयंती के अवसर पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी कार्यकर्ताओं ने भेल विचार गोष्ठी का आयोजन किया। गोष्ठी में वक्ताओं ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के जीवन पर प्रकाश डालते हुए प्रेरणा लेने का आह्वान किया। गोष्ठी को संबोधित करते कामरेड एमएस त्यागी ने कहा कि महात्मा गांधी ने सत्य और अहिंसा का सहारा लेकर अपने सत्याग्रहों, जन आंदोलनों एवं असहयोग आंदोलनों से देश को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कामरेड मुनरिका यादव ने कहा कि भारत में गरीबी देखकर महात्मा गांधी ने एक ही धोती आधी पहनने और आधी शरीर पर लपेटने का संकल्प लिया था। आज की सरकार कार्पोरेट पक्षधर सरकार है। गांधी जी अनदेखी कर उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया जा रहा है। देश में आपसी भाईचारे, सौहार्द को बढ़ाने के बजाए घृणा और नफरत फैलाकर देश को बांटने का काम किया जा रहा है। कामरेड एमएम वर्मा ने कहा कि देश को आजाद कराने में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की भूमिका तथा आजादी के बाद खाद्यान्न के मामले में देश को आत्मनिर्भर बनाने में पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। देश में खाद्यान्न की कमी को देखते हुए शास्त्री जी ने देशवासियों से सप्ताह में एक बार व्रत रखने के लिए कहा और श्वेत क्रांति और हरित क्रांति लाने का संकल्प लिया था। कामरेड टीके वर्मा ने कहा कि शास्त्री जी ने जय जवान और जय किसान का नारा देते हुए कहा था कि जवान मुस्तैदी से सीमा पर रक्षा करें और किसान खाद्यान्न के मामले में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कार्य करें। कामरेड भगवान जोशी ने कहा कि महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। वर्तमान सरकार देश की सम्पत्ति को निजी हाथों में सौंप रही है और किसान मजदूरों को गुलामी की तरफ धकेल रही हेै। गरीबों, मजदूरों, किसानों एवं महिलाओं में असुरक्षा की भावना बढ़ रही है। गोष्ठी में कामरेड कालूराम जयपुरिया, कामरेड साकेश वशिष्ठ, कामरेड देवभगवान, कामरेड शत्रुघ्न राय, कामरेड भीमसिंह पटेल, कामरेड अवधेश भारद्वाज, कामरेड वासुदेव, कामरेड भगवान सिंह, कामरेड विक्रम सिंह नेगी आदि ने भी विचार रखे।