ALL crime social current political sports other
गुकाविवि में पांच दिवसीय फेकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम आयोजित
September 22, 2020 • BABLI JHA • other

हरिद्वार। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में एआईसीटी ट्रेनिंग एवं लर्निंग एकेडमी के तहत अखिल भारतीय तकनीकी संस्थान (एआईसीटीई) के द्वारा पोषित पांच दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मंगलवार को ऑनलाइन कार्यशाला के पहले दिन एआईसीटीई के चेयरमैन प्रो. अनिल सहस्त्रबुद्वे एवं उप चेयरमैन प्रो. एमपी पुनिया ने शिक्षकों के लिए इस तरह की कार्यशालाओं की महत्ता पर प्रकाश डाला। आर्ट ऑफ लिविंग से डा. आनंद जायसवाल ने कहा कि वास्तव में तनाव क्या है और यह हमारे मन और बुद्धि पर किस प्रकार असर डालता है। मनुष्य के अंदर जो अंहकार की भावना आ जाती है वह किस-किस रूप में निहित होती है। उस पर काबू किस प्रकार पाया जा सकता है। उन्होंने सत्र के दौरान सभी प्रतिभागियों को मेडिटेसन व उससे होने वाले लाभ के बारे में चर्चा की। डा एम सुरेश (तरून्या यूनिवर्सिटी क्यम्बयूटूर) ने बायोडीजल की रूपरेखा के बारे में प्रकाश डाला। उन्होंने आर्गेमन मेक्सीकाना तेल से बायोडीजल बनाने की विधि को बताया। डा जीवन वचन ने गासिफिकेशन प्रोसेस और उससे जुडे तथ्यों पर प्रकाश डाला। संकायाध्यक्ष प्रो. पंकज मदान ने भारत में ईधन की महत्ता एवं उपलब्धता पर जोर देते हुए सभी प्रतिभागियों को जागरूक किया। पहले दिन में तीन तकनीकी सेशन का आयोजन किया गया। जिसमें कालेज आफ इंजीनियरिंग रुड़की से डा. सिद्वार्थ जैन, मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान से डा. गौरव द्विवेदी व दिल्ली टेक्नोलॉजिकल विश्वविद्यालय से डा. अनिल कुमार ने कार्यशाला के विषय वैकल्पिक ईंधन, बायोफ्यूल से सम्बधित तथ्यों के बारे में अपने विचारों को प्रकट किया।