ALL crime social current political sports other
महात्मा गाॅधी के विचार दुनिया का मार्गदर्शन करता रहेगा-महंत रविन्द्रपुरी
October 2, 2020 • BABLI JHA • other

हरिद्वार। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयन्ती के अवसर पर एस.एम.जे.एन. काॅलेज में प्राचार्य डा.सुनील कुमार बत्रा, डा.नरेश कुमार गर्ग व अधिष्ठाता छात्र कल्याण डा.संजय कुमार माहेश्वरी एवं समस्त स्टाफ ने दोनों महापुरूषों की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित कर उनको नमन किया गया। इस अवसर पर काॅलेज प्रबन्ध समिति के सचिव श्रीमहन्त रविन्द्र पुरी महाराज ने अपने संन्देश में कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के विचार भारत सहित पूरी दुनिया का मार्गदर्शन करते हैं और आगे भी करते रहेंगे। महात्मा गांधी के समान विचार रखने वाले पं.लाल बहादुर शास्त्री भारतीय संस्कृति की श्रेष्ठ पहचान हैं। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने स्वच्छ भारत का सपना भी देखा था। अब हम सभी का कर्तव्य है कि वे अपने देश, स्थान व आस-पास के क्षेत्र को स्वच्छ रखें तथा अन्य लोगों को भी स्वच्छता के लिए प्रेरित करें। काॅलेज के प्राचार्य डा.सुनील कुमार बत्रा ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने गुलामी की जंजीरों को तोड़कर देश को आजाद कराया। हमारा कर्तव्य है कि उनके पद्चिन्हों पर चलकर भारत माँ की सेवा करें। उन्होंने कहा कि गाँधी जी को महात्मा की उपाधि हरिद्वार में स्वामी श्रद्धानन्द ने प्रदान की थी तथा महात्मा गांधी ने सर्वप्रथम 1915 में तीर्थनगरी हरिद्वार से ही स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत की थी। डा.बत्रा ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री से कर्तव्यनिष्ठा व अपने सिद्धान्तों पर अड़िग रहने की प्रेरणा मिलती है। काॅलेज के शिक्षकों, कर्मचारियों को स्वच्छता व स्वच्छ हरिद्वार बनाने की शपथ दिलाते हुए डा.बत्रा ने कहा कि स्वच्छता अभियान जनजागृति के बिना अपूर्ण रहेगा। मुख्य छात्र कल्याण अधिष्ठाता डा.संजय कुमार माहेश्वरी ने कहा कि 2 अक्टूबर को प्रतिवर्ष अन्तर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस भी मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने कृषि उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए ‘जय जवान-जय किसान’ का नारा दिया था। इस अवसर पर डा.नरेश कुमार गर्ग, डा.नलिनी जैन, रासेयो की कार्यक्रम अधिकारी डा.सुषमा नयाल, डा.रस्वती पाठक, रिंकल गोयल, रिचा मिनोचा, डा.लता शर्मा, साक्षी अग्रवाल, सुगन्धा वर्मा, डा.पूर्णिमा सुन्दरियाल, डा.विनीता चैहान, दिव्यांश शर्मा, अंकित अग्रवाल, डा.प्रज्ञा जोशी, नेहा गुप्ता, डा.पदमावती तनेजा, वेद प्रकाश चैहान, होशियार सिंह चैहान, हेमवंती आदि शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारी उपस्थित रहे।