ALL crime social current political sports other
श्रीस्वामी भूमानंद काॅलेज आॅफ नर्सिेग में हर्षोल्लास के साथ मनाया स्वतंत्रता दिवस
August 15, 2020 • BABLI JHA • current

श्री स्वामी भूमानन्द अस्पताल तथा श्री स्वामी भुमानन्द काॅलेज आॅफ नर्सिंग, रानीपुर झाल, ज्वालापुर, हरिद्वार के संस्थापक अध्यक्ष, भूमापीठाधीश्वर, अनन्तश्री विभूषित स्वामी अच्युतानन्द तीर्थ जी ने पहले सिद्धपीठ भूमा निकेतन आश्रम तथा उसके पश्चात चिकित्सालय प्रांगण में ध्वाजारोहण किया। सर्वप्रथम चिकित्सालय के संयुक्त सचिव देवराज सिंह तोमर,चिकित्सा अधिक्षक, डाॅ. आकाश जैन तथा नर्सिंग काॅलेज की प्रधानाचार्या, श्रीमती एस.एंग्यारकन्नी आदि ने महाराजश्री का माल्यार्पण कर स्वागत किया । इसके अतिरिक्त इस कार्यक्रम में दण्डी स्वामि सुरेश्वरानन्द तीर्थ जी का भूमा निकेतन आश्रम के प्रबन्धक राजेन्द्र शर्मा ने माला पहनाकर स्वागत किया। महाराज श्री ने इस पुण्य अवसर पर समस्त देशवासियों को स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं दी और कोविड-19 की महामारी के दौरान दिन-रात कार्य करने वाले देश व प्रदेश के चिकित्सा सुरक्षा कर्मियों तथा अपने चिकित्सालय के डाॅक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, सफाई कर्मियों की भूरी-भूरी प्रंशसा की। महाराजश्री ने कहा कि हमारे चिकित्सालय में कार्यरत् कोई भी व्यक्ति, कर्मचारी नही बल्कि इस चिकित्सालय के परिवार का ही एक सदस्य है।कोई भी व्यक्ति छोटा या बड़ा नही होता, बल्कि उसके द्वारा किये जा रहे कार्य ही उसकी गुणवत्ता को प्रदर्सित करते है, जिसके लिए महाराजश्री ने देश के पूर्व राष्ट्रपति डाॅ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम से भेंट के दौरान उनके द्वारा एक साधु के प्रति उनकी भावना तथा उनके द्वारा किये गये कार्य की प्रंशसा की और कहा कि हम सभी भारतीयों को ऐसा ही स्वभाव एक-दूसरे के प्रति रखना चाहिए। महाराजश्री ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी डाॅक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, सफाई कर्मी तथा अन्य देशभक्तों को अपना आशीवार्द प्रदान किया और और स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं दी। इस अवसर पर चिकित्सालय के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. आकाश जैन, डाॅ. आर.के. गुप्ता, डाॅ. आर.एस. प्रसाद, डाॅ. आर.के. गुप्ता, डाॅ. आर.के पाण्डेय, डाॅ. मौसम जैफरीन, डाॅ. मो. सईद, डाॅ. शिल्पा शर्मा, जनरल मैनेजर दिलजो थाॅमस, नर्सिंग सुपरीटेन्डेन्ट जाॅयल थाॅमस तथा श्री स्वामी भूमानन्द नर्सिंग काॅलेज की उप-प्रधानाचार्य श्रीमती रुची चैहान तथा काॅलेज के अन्य स्टाफ आदि उपस्थि थे।