ALL crime social current political sports other
व्यापारियों की मांगों को लेकर निकाली जा रही सत्याग्रह यात्रा पर स्थानीय व्यापारियों न पुष्प वर्षा कर स्वागत किया
October 8, 2020 • BABLI JHA • other

हरिद्वार। प्रदेश व्यापार मण्डल के प्रदेश अध्यक्ष संजीव चैधरी द्वारा व्यापारियों की मांगों को लेकर निकाली जा रही सत्याग्रह यात्रा के ज्वालापुर पहुंचने पर स्थानीय व्यापारियों न पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। इस दौरान व्यापारियों को संबोधित करते हुए संजीव चैधरी ने कहा कि व्यापारियों के लिए आर्थिक पैकेज, बिजली पानी के बिल और स्कूल फीस माफी की माँग को लेकर निकाली जा रही सत्याग्रह यात्रा का पहला चरण पूरा होने के बाद अगले चरण में कुमाऊँ का दौरा कर वहां व्यापारियों को जागरूक व एकजुट किया जाएगा। चैधरी ने कहा की महाकुम्भ शुरू होने में अब कुछ ही समय शेष बचा है और सरकार ने केवल अभी तक संत समाज से ही वार्ता की है। उन्होंने कहा कि सरकार के रवैये से लगता है कि केवल संत समाज का ही कुम्भ से नाता है। उन्होंने कहा कि संत सबके पूजनीय हैं। लेकिन कुम्भ को सफल बनाने में सब से बड़ा काम व्यापारी वर्ग का है। एसपीओ बंनने से लेकर यात्रियों को सहयोग और पुलिस और यात्री के बीच सेतु का कार्य व्यापारी वर्ग ही करता है। कई बड़े आयोजन में व्यापारी ही प्रशासन या पुलिस की ढाल बनकर खड़ा हुआ है। अब ऐसे में सरकार का अभी तक एक बार भी व्यापारियों से वार्ता ना करना आने वाले समय में समस्या का कारण बन सकता है। सरकार को बताना चाहिए कि कुंभ प्रतीकात्मक होगा या भव्य स्तर पर कुंभ का आयोजन होगा। ताकि व्यापारी उसी अनुरूप अपनी तैयारी कर सकें। चैधरी ने कहा कि जब तक व्यापारियों की मांगे नहीं मानी जाएंगी तब तक आंदोलन अनवरत् रूप से जारी रहेगा। यात्रा संयोजक सुधीश श्रोत्रिए व जटवाड़ा पुल व्यापार मण्डल अध्यक्ष अनिल तेश्वर ने कहा कि सरकार को व्यापारियों की बात सुननी ही होगी। राजीव तुमबंडीया व सरदार कोमल सिंह ने कहा कि मांगें नहीं मानी गयी तो व्यापारी विधानसभा चुनाव में सरकार को सबक सिखाएंगे। यात्रा में विभास सिन्हा, अशोक उपाध्याय, आकाश सैनी, वीरेन्द्र शर्मा, श्रवण गुप्ता, कुलवंत चड्ढा, राजेश कुमार, दिनेश कपड़िया,दीपक तहिवल, सागर, जोनी, बाबू राम, मोनु, सोनू, आनन्द, सतीश,छोटू ,प्रेम यादव, रणबीर, मनमथ भाटिया, अंशुल खन्ना, अनुराग निगम, अरविन्द राणा, हेमंत कश्यप, राजू ठाकुर, दिनेश धीमान, मोहन ठाकुर आदि व्यापारी प्रमुख रूप से शामिल रहे।